ऑस्ट्रेलिया के जंगल में लगी आग ने लिया विकराल रूप, करोड़ों जानवरों की मौत  

जंगल में लगी आग

नई दिल्ली-  ऑस्ट्रेलिया के जंगल में लगी आग ने विकराल रूप ले लिया है। कई महीनों से धधक रही है आग एक दम से बेकाबू हो गई है। जंगल में लगी आग ने कई जानवरों को अपनी चपेट में ले लिया है। बेकाबू हुई आग ने 200 से अधिक घरों को भी नष्ट कर दिया है साथ ही वहा रह रहे लोगों को भी अपना घर छोड़ कर जान बचाकर भगना पड़ा है।

चार महीने का समय बीत चुका है। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के इकोलॉजिस्ट ने अनुमान जताया है कि अब तक 48 करोड़ जानवरों की मौत आग में झुलसने से हुई है। इसमें स्तनधारी पशु, पक्षी और रेंगने वाले जीव सभी शामिल हैं।

न्यू साउथ वेल्स के मध्य-उत्तरी इलाके में सबसे अधिक कोआला जानवर रहते है। लेकिन जंगलों में लगी आग की वजह से उनकी आबादी में भारी गिरावट आई है। वहीं बता करे लोगों को की तो रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि आस्ट्रेलिया में लगी आग से अभी तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लगभग 36,000 वर्ग किलोमीटर का बड़ा क्षेत्र आग की चपेट में है। ऑस्ट्रेलिया में गर्मी के मौसम में जंगल में आग लगना आम है।

यह भी पढ़ें- ईरान ने लाल झंडा लहरा कर किया युद्ध का ऐलान, अमेरिका ने दी तबाह करने की धमकी

जंगल की आग को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने 13 जनवरी से शुरू होने वाली अपनी चार दिवसीय भारत यात्रा शनिवार को रद्द कर दिया है। हालांकि प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा कि वह आगामी महीनों में सही समय पर एक बार फिर से यात्रा की तारीख तय करेंगे। वह 13 जनवरी से शुरू होने वाली अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ व्यापक द्विपक्षीय बातचीत करने वाले थे। लेकिन अभी के लिए इस यात्रा को रोक दिया गया है।

एक बयान में ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमारा देश इस वक्त देश भर में फैली भीषण जंगल की आग संकट से जूझ रहा है. इस मुश्किल घड़ी में हमारी सरकार का पूरा ध्यान ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों की मदद करने पर केंद्रित है. कई लोग फिलहाल आग के खतरे का सामना कर रहे हैं और कई लोग इससे उबर चुके हैं.”

बयान के अनुसार प्रधानमंत्री ने भारत की अपनी राजकीय यात्रा एवं जापान की आधिकारिक यात्रा रद्द कर दी ताकि वह ऑस्ट्रेलिया में आई आपदा के समय देश में रहें और बचाव कार्यों पर करीब से नजर रख सकें.

इसके अनुसार, “हम लोग इस यात्रा को लेकर भारत और जापान की ओर से की गई व्यवस्थाओं की सराहना करते हैं और आगामी महीनों में यात्रा को पुननिर्धारित करने को लेकर आशावान हैं.”

यह भी पढ़ें- मासूम बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़कर 107, सचिन पायलट ने अपनी ही सरकार को घेरा

बयान के अनुसार, “देश भर में हमलोग जहां भी गए वहां हमें जंगल की आग के कारण तबाही और निराशा ही दिखी. सबसे अच्छी बात यह दिखी कि संकट की इस घड़ी में ऑस्ट्रेलियावासी एक साथ मिलकर एक दूसरे की मदद को आगे आए हैं.”

इसके अनुसार, “हमने ऑस्ट्रेलिया वासियों से अपने-अपने इलाकों में हालात पर नजर रखने और राज्य एवं अधिकारियों तथा एडीएफ के निर्देशों का पालन करने की अपील की है, क्योंकि वे लोगों को सुरक्षित रखने के लिए काम कर रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया वासियों को इस मुश्किल घड़ी से निकालने के लिए जो भी बन पड़ेगा वह किया जाएगा.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *