केंद्र सरकार का 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज कितना नया, ‘नाम बड़े दर्शन छोटे’ !

20 लाख करोड़ आर्थिक पैकेज, Randeep Surjewala And PM Modi, Socialaha

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने आज मोदी सरकार के 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और सरकार को जमकर निशाने पर लिया है। सुरजेवाला ने मोदी सरकार के इस राहत पैकेज को लेकर कई सवाल खड़े किए और कई आरोप भी लगाए।

बजट और मैनिफेस्टो से कितना अलग पैकेज ?

कांग्रेस का आरोप है कि ये 20 लाख करोड़ का पैकेज सरकार के बजट और मेनिफेस्टो से अलग नहीं है। अपनी पुरानी योजना को पैकेज बता रहे हैं। 20 लाख करोड़ का जुमला पैकेज मात्र 13 जीरो हैं । आरबीआई गवर्नर का काम वित्त मंत्री कर रही हैं और अपना काम भूल गई हैं ।

रणदीप सुरजेवाला ने हमला बोलते हुए कहा कि वित्त मंत्री बताने से इनकार कर गईं कि केंद्रीय बजट को री-पैकेज किया गया, ये अमानवीय है, विश्वासघात है । बजट स्कीम पैकेज को आर्थिक पैकेज बताना राष्ट्रहित नहीं । वित्तमंत्री ने 3 करोड़ मार्जिनल किसानों को 4,00,000 करोड़ का फसली लोन उपलब्ध करवाते समय यह बताना भूल गईं कि एग्रीकल्चर सेंसस 2016 के मुताबिक देश में 10 करोड़ मार्जिनल किसान हैं, जो एक हेक्टेयर से कम भूमि जोतते हैं। तो फिर 7 करोड़ मार्जिनल किसानों का क्या होगा?

सुरजेवाला ने कहा नाम बड़े और दर्शन छोटे, 20 लाख करोड़ का पैकेज सिर्फ 13 जीरो साबित हुआ है। देश के अन्नदाता को बरगलाया जा रहा है। एक रुपया दिया नहीं, MSP दिया नहीं, MSP से ज्यादा लागत, बीमा योजना प्राइवेट कंपनी मुनाफा योजना बन गई, किसान सम्मान में साढ़े 6 करोड़ महरूम क्यों, 15 हजार प्रति हेक्टेयर लागत बढ़ाई।

कर्ज कर्ज और, और कर्ज । ये MUDU इकॉनोमिक पैकेज है । क्या श्रमिक के जेब मे एक कौड़ी गई, किसान को गई, MSME को फूटी कौड़ी नहीं मिली । MSME मंत्री ने ही पोल खोल दी कि MSME की तरह 5 लाख करोड़ देना बाकी है । यानी खुद MSME का पैसा नहीं दिया जा रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *