भारी आवाज और चेहरे के हाव-भाव से ही दर्शक कांप जाते थे

गोगा कपूर

बॉलीवुड के खलनायक गोगा कपूर के जन्मदिन पर विशेष

नई दिल्ली-  फिल्मी पर्दे पर इनकी भारी-भरकम आवाज और चेहरे के हाव-भाव देखकर ही दर्शक कांप जाते थे | हिंदी सिनेमा में उनकी संवाद अदायगी इतनी नफरत तुली रहती थी कि कई फिल्मों में वह कलाकार पर भी भारी पड़ जाते थे | बॉलीवुड में
जितने नायक फेमस होते हैं उतने ही खलनायक भी फेमस होते हैं | ऐसे ही खलनायकी के तेवर दिखाने वाले अभिनेता गोगा कपूर भी उनमे से एक हैं | अपने दमदार अभिनय की वजह से गोगा कपूर ने बॉलीवुड में अपनी खास पहचान बनाई थी | जी हां आज हिंदी सिनेमा के खलनायक और चरित्र भूमिका निभाने वाले गोगा कपूर का जन्मदिन है | बता दें कि, गोगा कपूर का जन्म 15 दिसंबर 1940, गुजरांवाला, पाकिस्तान में हुआ था | आइए आज गोगा कपूर का फिल्मी सफर कैसा रहा बात करते हैं|

1971 से फिल्मी करियर की थी शुरुआत

अपने शुरुआती दिनों में उन्होंने बहुत से इंग्लिश प्ले किए | थिएटर में उनकी महारथ देखकर जल्द ही उन्हें इंडस्ट्री से बुलावा आ गया | उन्होंने रीजनल भाषाओं की फिल्मों में ढेर सारा काम किया था | यहां हम आपको बता दें कि बॉलीवुड के मशहूर खलनायक गोगा का असली नाम रविन्द्र कपूर था | गोगा ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 1971 में फिल्म ‘ज्वाला’ से की थी | फिल्म इंडस्ट्री में अपना करियर शुरू करने वाले गोगा कपूर पहले थियेटर आर्टिस्ट थे | इसके बाद उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा था | इसके बाद उन्होंने अपने करियर में कई हिट फिल्में की हैं | खास बात यह है कि इसके बाद, उन्होंने मुख्य रूप से खलनायक भूमिकाओं को चित्रित किया | गोगा ने कई फिल्मों में चरित्र भूमिका भी निभाई जो कि दर्शकों ने बहुत पसंद किया था | फिल्म के ‘ज्वाला’ के बाद उन्होंने अपने करियर में कई हिट फिल्में की हैं |

यह भी पढ़ें – बॉलीवुड के यह एक्टर जामिया के छात्रों के साथ करेंगे नागरिकता संशोधन कानून का विरोध

गोगा कपूर की यह रही हिट फिल्में

गोगा को 80 और 90 के दशक की हिन्दी फिल्मों विलेन के रूप में याद किया जाता है | ‘कयामत से कयामत तक’, ‘अग्निपथ’, ‘शहांशाह’, ‘जिगर’, ‘मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी’, ‘राजा को रानी से प्यार हो गया’, ‘तूफान’ और ‘पत्थर के फूल’ की है | क़यामत से क़यामत तक का विलेन का रोल दर्शकों को आज भी याद है | ऐसे ही शाहरुख खान की फिल्म ‘कभी हां कभी ना’ का एंथनी गोम्स भला किसे याद नहीं होगा | गोगा को फिल्म ‘अग्निपथ’ में उनके ‘दिनकर राव’ के कैरेक्टर को कैसे भूला जा सकता है | लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने फिल्मों में काम करना बंद कर दिया था | इसके बाद, वह बॉलीवुड फिल्म एक ‘कुंवारी एक कुंवारा’ के साथ वापस आ गए, जिसमें उन्होंने फिर से नकारात्मक भूमिका निभाई थी | सिनेमा के दर्शक उनकी आवाज के लोग कायल थे | उन्होंने सफल महाकाव्य धारावाहिक ‘महाभारत’ में भी अभिनय किया उनकी पिछली फिल्म ‘द्वारजा बंद रखाे’ थी |

यह भी पढ़ें – नही थी उम्मीद और हो गई फांसी, ‘अफजल गुरु’ की थी यह आखिरी इच्छा

डायरेक्टर मनमोहन देसाई की लगभग हर फिल्मों में किया था अभिनय

बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर मनमोहन देसाई और गोगा की जोड़ी खूब जमी देसाई गोवा के एक्टिंग से बहुत ही प्रभावित थे उनको लगभग हर फिल्म में लिया करते थे | वो डायरेक्टर मनमोहन देसाई की फिल्मों का परमानेंट हिस्सा थे | मनमोहन देसाई ने जितनी भी फ़िल्में की, लगभग सभी में उनका रोल रहा | चाहे छोटा हो या बड़ा | अमिताभ के प्राइम टाइम में उनकी भी कमोबेश हर फिल्म में गोगा कपूर का नाम क्रेडिट्स में दिख जाता है |

फिल्म ‘तूफान’ में मुख्य विलेन का रोल निभाया था

मनमोहन देसाई की फिल्म तूफान में गोगा ने डाकू शैतान सिंह का मुख्य विलेन का रोल निभाया था | अमिताभ बच्चन के पिता का हत्यारा शैतान सिंह जिसकी वजह से दोनों भाइयों को बचपन में ही जुदा होना पड़ा | फिल्म के कई शॉट पर गोगा अमिताभ बच्चन पर भारी पड़ते दिखाई देते हैं | इस फिल्म का बॉक्स ऑफिस पर कुछ ज़्यादा जलवा तो नहीं रहा लेकिन गोगा के निभाए खलनायक को बहुत सराहना मिली थी |

महाभारत धारावाहिक में निभाई थी ‘कंस’ की भूमिका

गोगा  ने छोटे पर्दे पर भी दर्शकों में अपनी खास पहचान बनाई थी | बी आर चोपड़ा के द्वारा बनाया गया महाभारत धारावाहिक मैं गोगा ने कंस की भूमिका निभाई थी | दर्जनों स्टार्स से भरी हुई स्टार कास्ट में अगर कोई एक किरदार याद रह जाए तो ये उस एक्टर के लिए उपलब्धि ही होती है | गोगा ने निभाए ‘कंस’ के किरदार को जबरदस्त पहचान मिली थी |

वर्ष 2011 में गोगा कपूर का निधन हो गया था

गोगा काफी समय से लंबी बीमारी से ग्रसित थे | आखिरकार हिंदी सिनेमा के मशहूर खलनायक 70 वर्ष की आयु में 3 मार्च 2011 को हमसे जुदा हो गए | गोगा की तीन बेटियां है | भले ही गोगा हमारे बीच नहीं है लेकिन उनकी भारी-भरकम आवाज और दमदार अदाकारी को दर्शक आज भी याद करते हैं |

रिर्पोट- शंभू नाथ गौतम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *