‘ज्योति’ की रोशनी अमेरिका तक पहुंची, 1200 KM साइकिल चलाकर बेटी ने पहुंचाया पिता को घर

ज्योति, Ivanka Trump And Cycle Girl jyoti, Socialaha

नई दिल्ली: कहते हैं कि ऊपरवाले के घर में देर है अंधेर नहीं । जी हां इसा जीता जागता उदाहरण है एक घर की वो ज्योति जो अपने पिता के साइकिल से तकरीबन 1200 किलोमीटर का सफर तय करके गुरुग्राम से दरभंगा ले गई। वो ज्योति जिसने मजबूरी में शुरू किया अपना सफर और अंत में ये मजबूरी अब उसे कामयाबी तक पहुंचा रही है।

भूखी, रोती-बिलखती ज्योति जब साइकिल पर बैठाकर अपने बीमार पिता के लेकर निकली होगी तो किसने सोचा होगा कि अगले 10 दिनों में इस ‘ज्योति’ की रोशनी अमेरिका तक पहुंच जाएगी। इसके अलावा साइकिल फेडरेशन ऑफ इंडिया भी ज्योति को ट्रायल का मौका दे देगा। लेकिन ये सब हुआ। कभी-कभी परिस्थितियों का सामना करके ही आप अपनी मंजिल तक पहुंचते हैं।


लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल पर बैठा कर हरियाणा के गुरुग्राम से 8 दिनों तक साइकिल चलाकर दरभंगा पहुंचने वाली बिहार की बेटी ज्योति इस समय सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है। पूरे देश के अलावा विदेशों में भी लोग उसके हौसले को सलाम कर रहे हैं।

इवांका ट्रंप हुईं मुरीद

दरभंगा के ज्योति की कहानी अमेरिका तक पहुंच गई है। डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने ज्योति के संघर्ष को सराहा है। ज्योति के संघर्ष कहानी की कहानी को इवांका ने अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा किया है।


इवांका ट्रंप ने अपने ट्वीट में लिखा कि 15 साल की ज्योति कुमारी अपने घायल पिता को साइकिल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गयी। यह भारतीयों की सहनशीलता और उनके अगाध प्रेम के भावना का परिचायक है और साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *