कानून मंत्री ने स्वाति के पास भेजी चिट्ठी, दिया मांगों को पूरा करने का आश्वासन

स्वाति

नई दिल्ली-  दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल का आमरण अनशन 11वें दिन भी जारी है। बीते 11 दिनों से स्वाति राजघाट पर अनशन कर रही हैं कल दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की अगुआई में एक जत्था राजघाट से संसद की तरफ कूच कर रहा था। राजघाट से निकले प्रदर्शनकारियों को शहीदी पार्क दिल्ली गेट मेट्रो स्टेशन के पास बेरिकेड्स लगा कर रोका गया है। इसके साथ ही कई प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने पीटा भी है।

यह भी पढ़ें – रेपिस्टों पर चुप्पी, महिलाओं की पिटाई- क्या यही है इंसाफ

इस मार्च के बाद शाम में स्वाति मालीवाल के पास एक चिट्ठी आई यह चिट्ठी कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद की तरफ से आई थी। रेप और पॉक्सो के मामलों में जल्दी कार्रवाई के लिए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने चिट्ठी लिखी है। यह चिट्ठी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों और सभी हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखा गया है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सभी मुख्यमंत्रियों से अपील की गई है रेप और पॉक्सो के मामलों में जांच 2 महीने में पूरी की जाए। वहीं हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस से अपील की गई है कि इन मामलों में ट्रायल 6 महीने में पूरा कराया जाए। अभी देश में 700 फास्ट ट्रैक कोर्ट चल रहे हैं, जबकि 1023 नए कोर्ट खोले जा रहे हैं।

साथ ही बता दें कि अभी भी स्वाति मालीवाल का अनशन जारी हैं। अनशन के 10वें दिन बारिश की वजह से स्टेज पर पानी टपकता रहा लेकिन उसके बाद भी स्वाति मालीवाल वहां से नहीं उठीं। स्वाति मालीवाल ने कहा कि सरकार ने बलात्कार के दोषियों को दंडित करने की उनकी मांगों को पूरा नहीं किया है। जब तक सरकार फैसला नहीं लेती है तब तक हड़ताल जारी रहेगी।


आगे उन्होंने कहा कि मैं केंद्र सरकार से अनुरोध करती हूं कि वे ऐसे नियम बनाएं जिनमें बलात्कार के दोषियों को 6 महीने के भीतर कठोरतम सजा मिलनी चाहिए। हालांकि, हमारी सरकार न तो महिलाओं के रोने की आवाज सुन सकती है, न ही महिलाओं की पीड़ा को देख सकती है

यह भी पढ़ें – स्वाति मालीवाल के समर्थकों का संसद मार्च, पुलिस ने की मार पीट

सरकार ने महिलाओं को सुरक्षा के संबंध में उनकी मांगों को पूरा नहीं किया है। जब तक सरकार उनकी मांगों को नहीं मान लेती, तब तक उनका विरोध जारी रहेगा। दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए। निर्भया फंड अभी भी अप्रयुक्त है, इसका इस्तेमाल आगे की घटनाओं को रोकने के लिए किया जाना चाहिए।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी को स्वाति मालीवाल ने पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने कहा था कि वादे पूरा करने तक आमरण अनशन करती रहूंगी। स्वाति मालीवाल के हालत दिन पर दिन 7 बिगड़ती जा रही हैं फिर भी सरकार की तरफ से ना कोई उनसे मिलने आया और ना ही उनकी मांगो को अभी तक पूरा किया गया। देश की राजधानी में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष के साथ ये सुलूक? और मुद्दा क्या ? महिला सुरक्षा। कहां है सब सत्ताधारी चौकीदार, देश की बहू बेटियों की सुरक्षा का जिम्मा कौन लेगा ??

1 thought on “कानून मंत्री ने स्वाति के पास भेजी चिट्ठी, दिया मांगों को पूरा करने का आश्वासन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *