स्वाति मालीवाल के समर्थकों का संसद मार्च, पुलिस ने की मार पीट

स्वाति मालीवाल swati maliwal_socialaha.com

नई दिल्ली-  आज दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के आमरण अनशन का 10वां दिन है। आज फिर स्वाति मालीवाल के समर्थको ने संसद मार्च निकला लेकिन बिल्कुल उनके कैंदल मार्च की तरह आज फिर उनको रोक दिया गया। मालीवाल का कहना है कि 6 महीने के भीतर बलात्कारियों को सजा दी जाए, वहीं फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के पास बलात्कारियों को फांसी देने की मांग को लेकर प्रोटेस्ट मार्च निकाला गया। हाथों में चूड़ियां और पोस्टर लेकर महिलाओं ने राजघाट से जंतर मंतर तक मार्च निकाले के लिए राजघाट से निकले।

जिस तरह से शांति से मार्च शुरु हुआ था उस तरह से मार्च को खत्म नही किया गया। संसद मार्च के साथ पुलिस फोर्स बराबर साथ चल रही थी लेकिन जैसे ही मार्च दिल्ली गेट पहुचा तस्वीरें बिल्कुल बदल गई। हाथों में लिए चुड़ियां महिलाएं पुरुष चलते जा रहें थे दिल्ली गेट पर भारी पुलिस बल मार्च का इंतजार कर रही थी। दिल्ली गेट पर ही मार्च को रोक दिया गया।
यह भी पढ़ें- कभी भी आ सकती है निर्भया के दोषियों की सजा-ए-मौत की तारीख

महिलाओं और पुरुष ने पहले तो पुलिस बल पर चुड़ियां फैकी और उनके बाद पीएम नरेंद्र मोदी और पुलिस के खिलाफ नारें बाज़ी शुरू कर दी। पुलिस ने जो बेरिकेड्स लगा रखे थे लोगों ने उसे हटाने की कोशिश की और उसके ऊपर से भी छलांग लगाने लगें।

लोगों का कहना था कि हम शांति से मार्च निलाक रहें है हमें आगे बढ़ने दिया जाए। लेकिन पुलिस कहा किसी की सुने वाली है। पुलिस ने मार्च को वहां से हिलने ही नही दिया गया। जिसके बाद लोगों सड़क पर ही बैठ कर सरकार और पुलिस प्रशसन के खिलाफ नारे बाज़ी करने लगे।
यह भी पढ़ें – CAB के खिलाफ असम में विरोध प्रदर्शन, 10 जिलों में इंटरनेट बंद

कुछ देर बाद लोगों ने फिर बेरिकेड्स को हटाने के कोशिश की तो दिल्ली पुलिस ने अपना बल दिखना शुरू कर दिया। एक एक कर लोगों को वहां से खदेड़ना शुरू कर दिया। कई प्रदर्शनाकरियों को पुलिस ने जूते व मुक्कों से मारा है स्वाति मालीवाल के साथ ही देश की आवाज़ को सरकार तक पहुचाने के लिए लोगों ने यह मार्च निकला लेकिन उनके मार्च को दिल्ली गेट पर ही रोक कर वापस लौटना पड़ा।


इस दौरान कई लोगों को चोट आई हैं और कुछ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। अपने मार्च के लोगों के रिहाई के लिए इस मार्च को वही खत्म कर यहां से लोग वापस स्वाति मालीवाल के पास लौट गए। मार्च मे लोगों के साथ जो हरकत पुलिस की तरफ से हुई उसको स्वाति मालीवाल ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किया है।

साथ ही स्वाति मालीवाल ने अनशन के 10वें दिन उन्होंने कहा कि ‘हर दिन अपने शरीर को धीरे धीरे टूटता महसूस कर रही हूं। अपने परिवार दोस्तों की मुस्कुराहट के पीछे आंसू देख रही हूं। उन्हें लगता है मुझे थका देंगे। जितना तड़पाएंगे हौसले उतने बुलंद होंगे! ये लड़ाई उनके घमंड और हमारी ज़िद्द के बीच है। सच की जीत निश्चित है!’

बता दें कि स्वाती का कहना हैं कि जब तक सरकार उनकी बात नही सुनेंगी तब तक वो अपने अनशन पर ऐसे ही बैठे रहेंगी। चाहें जान चली जाए लेकिन वो जब तक 6 महीने के भीतर बलात्कारियों को सजा दी जाएगी इसका कानून नही बनेंगा तब तक वो ऐसे ही बैठे रहेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *