शिरडी में आज बंद का ऐलान, कर पाएंगे श्रद्धालुओं साईं बाबा के दर्शन !

साईं बाबा Sai baba _socialaha.com

नई दिल्ली- साईं बाबा के श्रद्धालुओं ने आस्था का सवाल मानकर लड़ाई लड़ने का ऐलान कर दिया है। श्रद्धालुओं ने महाराष्ट्र सरकार के एक फैसले की खिलाफ जंग छेड़ दी है। साईं बाबा के श्रद्धालुओं का कहना है कि क्या रोजाना शिरडी पहुंचने वाले हजारों श्रद्धालुओं को पिसना पड़ेगा या आस्था के आगे उद्धव सरकार को झुकना पड़ेगा।

दरअसल यह मुद्दा साईं बाबा के जन्म स्थान को लेकर हैं और साईं बाबा के समर्थक इसे आस्था का सवाल मानकर लड़ाई लड़ने को तैयार हो गए हैं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अपील के बावजूद शिरडी ग्राम सभा ने रविवार को बंद करने का फैसला किया है। सीएम की तरफ से साईं बाबा की जन्मभूमि पाथरी शहर के लिए विकास निधि के ऐलान के बाद उठा विवाद शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। मुख्यमंत्री के बयान से शिरडी के लोग नाराज हैं।

यह भी पढ़ें- दिल्ली विधानसभा चुनाव के मैदान में उतरी बीजेपी, दिया ‘आप’ के मंत्री को मौका

मुख्यमंत्री के इस निर्णय के खिलाफ रविवार को शिरडी बंद का ऐलान किया है। विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि साईं बाबा ने अपने जन्म और धर्म जिक्र कभी नहीं किया और न ही साईं चरित्र में इसके बारे में कुछ लिखा हुआ है। शिरडी ग्राम सभा ने फैसला किया है कि जब तक मुख्यमंत्री ठाकरे अपना बयान वापस नहीं लेते हैं, तब तक उनका बंद जारी रहेगा। मुख्यमंत्री ने शिरडी के लोगों से रविवार के बंद को वापस लेने की बात कही है। शिवसेना एमएलसी नीलम गोरे ने एक बयान जारी करके कहा है कि आने वाले सप्ताह में मुख्यमंत्री शिरडी के लोगों से मिलेंगे और इस मसले का समाधान करेंगे।

गौरतलब है कि परभणी जिले का पाथरी शिरडी से करीब 275 किलोमीटर दूर स्थित है। ठाकरे ने इसे साईं बाबा की जन्मभूमि बताया और इसके विकास के लिए 100 करोड़ रुपये का ऐलान कर दिया। यूं तो साईं के जन्म को लेकर साफ-साफ जानकारी किसी को नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि वह शिरडी आकर बस गए और यहीं के होकर रह गए। इसके बाद से शिरडी की पहचान भी साईं से हो गई।

खबरों के मुताबिक 19 जनवरी को साईं बाबा बंद हो रहा है। बता दें कि बीती 9 जनवरी को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने परभणी जिले के पाथरी को साईं बाबा के जन्म स्थान की हैसियत से विकसित करने के लिए 100 करोड़ के पैकेज का ऐलान कर दिया। इसके बाद से ही ये विवाद भड़क गया है।

उद्धव से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी पाथरी को लेकर ऐसा ही ऐलान किया था। 2018 में साईं समाधि शताब्दी समारोह का उद्घाटन करने पहुंचे राष्ट्रपति ने कहा था, ‘पाथरी सांई बाबा का जन्म स्थान है। मैं पाथरी के विकास के लिए काम करूंगा।’

यह भी पढ़ें- ‘डॉक्टर बम’ हुए लापता, 50 से ज्यादा ब्लास्ट को दे चुके है अंजाम

हालांकि, ये सच है कि साईं बाबा के बारे में जानकारियां बहुत सीमित हैं। यहां तक कि उनके धर्म और परिवार के बारे में भी लोगों के अपने-अपने दावे हैं लेकिन सवाल ये भी है कि अगर कुछ लोगों की आस्था के तहत पाथरी को साईं बाबा का जन्म स्थान मान भी लिया जाए तो इससे किसी को क्या आपत्ति हो सकती है? लेकिन बात सिर्फ आस्था की है या फिर असल मुद्दा कुछ और है?

लेकिन ये भी सच है कि साईं भक्तों की आस्था के चलते सांई ट्रस्ट दुनिया के सबसे अमीर धार्मिक ट्रस्टों में से एक है। मंदिर के चारों तरफ बसे कस्बों और गावों की अर्थव्यवस्था साईं के इर्द गिर्द ही घूमती है। अगर ट्रस्ट की बीते साल की रिकॉर्ड तोड़ कमाई पर नजर डालें तो 2019 में साईं दरबार में 287 करोड़ का चढ़ावा आया। चढ़ावे में कैश के अलावा 19 किलो सोना और 392 किलो चांदी भी मिली। साल 2018 में 285 करोड़ का चढ़ावा आया था। वहीं मंदिर में रोजाना आने वाला औसत चढ़ावा 80 लाख रुपए है। मंदिर ट्रस्ट के पास 1500 करोड़ रुपये से ज्यादा का फिक्स्ड डिपॉजिट है।

जाहिर है अगर पाथरी में साईं बाबा के जन्म स्थान के नाम पर मंदिर बन गया तो देश भर से आने वाले सांई भक्तों का एक हिस्सा उधर भी सिर झुकाने पहुंचेगा और शिरडी में बरसने वाली इस दौलत पर भी असर पड़ेगा। आस्था के नाम पर छप्पर फाड़कर बरसती इसी दौलत का तकाजा है कि शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने साईं के खिलाफ धर्मयुद्ध छेड़ रखा था और उन्हें मुसलमान बताकर हिंदुओं को शिरडी से दूर रहने की नसीहत भी दे डाली थी, लेकिन आस्था तो आस्था है. एक बाार बन गई तो फिर टूटना आसान नहीं होता।

साईं ट्रस्ट का बंद को समर्थन जरूर है लेकिन एक अहम बात जो ट्रस्ट ने साफ की है वो ये कि शिरडी बंद के दौरान मंदिर बंद नहीं रहेगा। मंदिर में आम दिनों की तरह आरती, पूजापाठ होता रहेगा और श्रद्धालुओं को साईं बाबा के दर्शन भी मिलेंगे, लेकिन शहर में बंद के चलते होटल और बाकी सुविधाओं के लिए श्रद्धालुओं को मुसीबत झेलनी पड़ सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *