हैदराबाद मामला : तीन पुलिसकर्मी निलंबित, फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन का आदेश

नई दिल्ली- बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं.. कहना बहुत आसान है लेकिन क्या सही में हमारे देश मे बेटियां बच रही है। हमारे देश भारत में दुष्कर्म के मामले रुकने के नाम नहीं ले रहे है। एक के बाद एक देश की बेटियों की आबरू की लुटी जा रही है और इन मामलों मे पुलिस और प्रशासन हाथ पर हाथ रख बैठा हुआ है। अब हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस ने शमशाबाद में बुधवार रात महिला डॉक्टर प्रियंका रेड्डी के साथ बलात्कार और हत्या मामले में प्राथमिकी दर्ज करने में विलंब करने के कारण एक दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।

यह भी पढ़ें- दुष्कर्म की वो वारदातें जिन्होंने दहला दिया देश, कब मिलेगा इंसाफ !

साइबराबाद पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनार ने कहा कि कर्तव्य में लापरवाही बरतने के मामले की व्यापक जांच रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है। तीनों पुलिसकर्मियों को अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि जांच के दौरान इस बात का खुलासा हुआ कि इन अधिकारियों ने डॉक्टर के लापता होने के मामले की प्राथमिकी दर्ज करने में विलंब किया। 27-28 नवम्बर की रात डॉक्टर के परिजन इस मामले की प्राथमिकी दर्ज कराने गए थे। निलंबित दरोगा रवि कुमार शमशाबाद थाने में तैनात था जबकि हेड कांस्टेबल पी वेणुगोपाल रेड्डी और ए सत्यनारायण गौड़ राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा थाने में तैनात थे।

अब मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन का आदेश दिया है। ये अदालत महिलाओं के खिलाफ होने वाली यौन हिंसा से जुड़े मामलों की जल्द सुनवाई करती है। अब हर किसी को इंतजार है कि इस मामले में कितनी जल्दी कोर्ट फैसला सुनाती है और आरोपियों को सजा देती है।

यह भी पढ़ें- हैदराबाद का गुस्सा दिल्ली में फुटा, क्यों नहीं अपने ही देश में महिलाएं सुरक्षित !

हैदराबाद में बलात्कार और हत्या के विरोध में दिल्ली में कैंडल मार्च निकाला गया। देश का हर इंसान चाहता है कि ऐसे दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा हो। सरकार एक ऐसा कानून निकले जिससे कोई व्यक्ति ऐसी हरकत करने से पहले दस बार सोचे। दिल्ली समेत हर राज्य मे प्रियंका जैसी कई महिलाएं है जो ऐसे दरिंदो का शिकार होती है। लेकिन आखिर में इन दोषियों को फांसी की सजा सुना तो दी जाती है लेकिन फांसी होती नही है। देश कि माहिलाएं सरकार से बस सुरक्षा की मांग कर रही है। देश की महिलाओं बच्चियों को एक ही डर है कि निर्भया आसिफा प्रियंका रेड्डी के बाद कही अब बारी हमारी ना हो। महिलाओं का यह डर जल्द से जल्द सरकार को खत्म करना ही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *