CAA और NRC पर क्यों कर रहें है बिहार के सीएम नीतीश कुमार सवाल

नीतीश कुमार CM Nitish Kumar_socialaha.com

नई दिल्ली- 10 जनवरी को देशभर में नागरिकता कानून लागू हो चुका है लेकिन विरोध और सवाल अभी भी जारी है। अब बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर बड़ा बयान दिया है। नीतीश कुमार ने दो टूक कहा कि सीएए पर बहस होनी चाहिए और अगर सभी पक्ष सहमत होते हैं तो फिर इस पर नए सिरे से विचार करना चाहिए। हालांकि इस दौरान नीतीश कुमार ने साफ किया कि बिहार में एनआरसी लागू होने का कोई सवाल ही नहीं है।

सोमवार को विधानसभा विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार ने एक बार फिर दावा किया कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा। नीतीश ने कहा कि एनआरसी का मुद्दा सिर्फ असम के परिप्रेक्ष्य में है और इसे पीएम नरेंद्र मोदी भी स्पष्ट कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें- बीजेपी नेता सुनील देवधर के नेतृत्व में CAA को लेकर हुआ विशाल आयोजन

बता दें कि नागरिकता कानून के खिलाफ जेडीयू में ही दो फाड़ की स्थिति तब बन गई जब पार्टी लाइन से इतर उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने बयान दिया। प्रशांत किशोर ने रविवार को भी सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ की। इसके बाद से कई तरह की सियासी अटकलें भी लगाई जा रही हैं।

उधर, नीतीश कुमार पहले भी दावा करते रहे हैं कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा। एक बार फिर सोमवार को उन्होंने विधानसभा में यह दावा दोहराया। सीएम ने कहा, ‘बिहार में एनआरसी का कोई सवाल ही नहीं है। यह मुद्दा सिर्फ असम से जुड़ा है। पीएम नरेंद्र मोदी भी इस बारे में स्पष्ट कर चुके हैं।’

दरअसल, प्रशांत किशोर की तरफ से लगातार सीएए के विरोध के बीच लंबे समय तक नीतीश कुमार एनआरसी और सीएए के मुद्दे पर खामोश रहे। बिहार की सियासत में अब कहा जाने लगा है कि पीके नीतीश की मजबूरी हैं क्योंकि उन्हीं के जरिए नीतीश कई रणनीति पर काम कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि इसी वजह से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोची-समझी रणनीति के तहत इस मुद्दे पर अधिकतर खामोश रहे हैं।

यह भी पढ़ें- #CAA के लागू होने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी दिखेंगे एक साथ

दूसरी ओर प्रशांत किशोर को लेकर पार्टी के अंदर और बीजेपी नेताओं के बीच लगाई जा रही है अटकलों को विराम दे दिया है, क्योंकि प्रशांत किशोर ने कई दिनों से बिहार में एनआरसी लागू नहीं करने का ऐलान कर रहे थे। रविवार को भी प्रशांत किशोर ने ट्विटर पर जब यह ऐलान किया तो पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेता आरसीपी सिंह ने उनको घुड़की देते हुए कहा कि कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं। वहीं दूसरी ओर, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भी प्रशांत किशोर को ताल ठोंकते हुए कह रहे थे कि राज्य सरकार एनपीआर पर अधिसूचना जारी कर चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *